Follow by Email

Monday, 30 September 2013

For all the Mothers

माँ के आँचल का सुख कहीँ ओर नही मिलेगा
उसके चेहरे का नूर कहीं ओर नही मिलेगा
ना दिल दुखा उस माँ का कभी
माँ के जैसा दिल तुझे कहीँ ओर नही मिलेगा

यूँ तो माँ ने तेरे लिए सारी रात जाग कर गुज़ारी है, 

उसने रात का दिया बन कर तेरी ज़िंदगी सवारी है। 
तूने बदले में माँ को दिए दुःख ,कड़वे शब्द ,घर का कौना और घना अँधेरा ,
पर आज भी उसने रब से तेरे लिए ही दुआ मांगी है। 

तू मत भूल माँ के उन् ख्वाईशों को जो सिर्फ तेरे लिए ही गवाईं है ,
उसने तुझसे कुछ ना माँगा कभी  सिर्फ तेरे लिए ही अश्क बहाएं है। 
इतने ज़ुल्म के बाद वो, आज भी तेरा ही सुख चाहती है ,
तुझे परेशान होता देख, वो खुद बेचैन हो जाती है

कुछ तो दया कर तू आज उस पर और जाग जा उसके लाल 
माँ के चरणों में जा और अपना शीश झ़ुका,क्यूंकि,
माँ के चरणों के जैसा सुख तुझे कहीं ओर नही मिलेगा। 

Hinglish Version:-

(Maa ke aanchal ka sukh kahin aur na milega,
Uske chehre ka noor kahin aur na milega.
Naa dil dukha uss maa ka kabhi,
Maa ke jaisa dil kahin aur na milega.

Yun to maa ne tere liye saari raat jaag kar guzari hai
Usne raat ka diya ban kar teri zindagi sawaari hai
Tune badle mein maa ko diya dukh,ek ghar ka kauna,kadve shabd aur ghana andhera
par aaj bhi usne rab se tere liye hi duaa mangi hai.

Tu mat bhool maa ke unn khwaishon ko jo sirf tere liye hi usne gawai hai
Usne tujhse kuch na maanga kabhi sirf tere liye hi ashk bahayein hai
Itne zulm ke baad bhi wo toh aaj bhi tera hi sukh chahti hai
Tujhe pareshan hota dekh wo bechain ho jaati hai.

kuch toh dya kar tu aaj uss par Aur jaag jaaa uske laal
maa ke charnon mein ja aur apna sheesh zhuka kyunki
maa ke charnon ke jaisa sukh tujhe kahin aur na milega.)